Poem

मैं काला हूँ |

मैं काला हूँ, निशब्द भावना का प्रतीक कभी खिलखिलाते बच्चों का काला टिका, तो कभी श्रृंगार का काला काजल। मैं काला हूँ, जैसे हजरत के…
Poem

गगरी

  कलाकारों ने इसे आकार दिया मिट्टी से मटका बना दिया श्याम रंग इसका कुछ खास है इसके चमकने के कई राज़ है जैसे खास…
JYOTI SHUKLA
April 8, 2020