Poem

मैं काला हूँ |

मैं काला हूँ, निशब्द भावना का प्रतीक कभी खिलखिलाते बच्चों का काला टिका, तो कभी श्रृंगार का काला काजल। मैं काला हूँ, जैसे हजरत के…
Tale

LIFE OF A CLAY

मिट्टी से बना हूँ, इसी मिट्टी में मिल जाऊंगा एक दिन, जब तक हूँ साथ तेरे, साथ यूँही निभाउंगा ! This is how, A Pot lives…
ABHIJEET DAS
April 21, 2020
Poem

गगरी

  कलाकारों ने इसे आकार दिया मिट्टी से मटका बना दिया श्याम रंग इसका कुछ खास है इसके चमकने के कई राज़ है जैसे खास…
JYOTI SHUKLA
April 8, 2020
ARTICLE

CRAFTSMANSHIP

"करत-करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान  रसरी आवत-जात के, सिल पर परत निशान "   Some of the teachings remain intact with us, all our…
SEEMA SOLANKI
April 1, 2020